Top 20 ! अज्ञात शायरों की शायरी | Agyaat ki hindi shayri | 2022 |

Top 20 ! अज्ञात शायरों की शायरी | Agyaat shayaron ki shayari | 2022 |

 

अज्ञात शायरों की शायरी : Hello Doston toh yaar ek bar fir se aap sabhi ka sawagat hai shayarhindi.com par . Aaj hum apke liye leker aaye hai अज्ञात शायरों की शायरी . kuch anjan shayar hain jinka nam toh mashur nahi lekin unki shayari dil ko chu jati hai . aaj is post main aapkoo onhi kuch अज्ञात शायरों की शायरी milengi . toh hamare sath bane rhe is post k end tak . Agar apko hindi shayari ka sokh hai toh hmare site ko jrur visit kre . No 10 jrur padhna bhat khas hain .

* Famous hindi shayar list .

Click below for more quotes

love shayari for GF
Tareef shayari for status

Attitude shayari for boys 

Royal Dabbang hindi status shayari . 
Chaturai par shayari for What’s app status .
मनहूस पर शायरी  hindi shayar .
Positive Quotes in Hindi for life
कब्रिस्तान हॉरर स्टोरी इन हिंदी
डोरेमोन की असली कहानी
इतिहास बदलने वाली शायरी

 

अज्ञात शायरों की शायरी

 

अज्ञात शायरों की शायरी

 

 

(1)

Mujhe khabar thi mera intezaar ghar mein raha
ye haadsa tha ki umar bhar safar mein raha

मुझे खबर थी मेरा इंतजार घर में रहा
ये हंसी था की उमर भर सफर में रहा

(2)
Ye kya tilisam hai kiu raat bhar sisakta hun
wo kaun hai jo diyo mein jala raha hai mujhe

ये क्या तिलिस्म है किउ रात भर सिसकता हुं
वो कौन है जो दियो में जला रहा है मुझे

(3)
Muddat hui ek saksh ne dil tod diya tha
is waaste apnon se mohabbat nahi karte

मुद्दत हुई एक शाखा ने दिल तोद दिया था
इज वेस्ट अपनों से मोहब्बत नहीं करता

(4)
Mujhko meri sikast ki dohri saza mili
tujhse bicchad ke zindagi duniya se jaa mili

मुझे मेरी शिकस्त की दोहरी साजा मिली
तुमसे बिछड़ के जिंदगी दुनिया से जा मिल

(5)
Ek yaad ki maujoodgi seh bhi nahi sakte
ye baat kisi aur se keh bhi nahi sakte

एक याद की मौजूदगी से भी नहीं सकते
ये बात किसी और से कह भी नहीं सकते

अज्ञात शायरों की शायरी in hindi

 

(6)
Ab ghar bhi nahi ki tamanna bhi nahi hai
muddat hui socha tha ki ghar jaayenge ek din

अब घर भी नहीं की तमन्ना भी नहीं है
मुद्दत हुई सोचा था की घर जाएंगे एक दिन

(6)
Raasta de ki mohabbat mein badan shaamil hai
main faqat rooh nahi hun mujhe halka na samajh

रास्ता दे की मोहब्बत में बदन शमील है
मैं फकत रूह नहीं हूं मुझे हलका न समझो

(7)
Naamo ka ek hoozom sahi mere aas paas
dil soon ke ek naam dhadakta jarur hai

नमो का एक हूज़ोम सही मेरे आस पास
दिल सून के एक नाम धड़कता जरूर है

(8)
Pyaas badhti jaa rahi hai behta dariya dekh kar
bhaagti jaati hai lehrein ye tamaasha dekh kar

प्यास बढ़ती जा रही है, दरिया देख कर
भागती जाति है लहरें ये तमाशा देख कर

(9)
Wo meri rooh ki uljhan kaa sabab jaanta hai
jism ki pyaas bujhaane pe bhi raazi nikla

वो मेरी रूह की उलझन का सबब जनता है
जिस्म की प्यास बुझाने पे भी राज़ी निकला

 

best अज्ञात शायरों की शायरी

must read अज्ञात शायरों की शायरी

 

(10)
Main khil nahi saka ki mujhe nam nahi mila
saaki mere mijaaz ka mausam nahi mila

मैं खिल नहीं सका की मुझे नाम नहीं मिला
साकी मेरे मिजाज़ का मौसम नहीं मिला

(11)
Dhup ne guzaarish ki
ek boond baarish ki

धूप ने गुजारिश कि
एक बूंद बारिश की

(12)
Roz ache nahi lagte aansoo
khaas mauko par maza dete hai

रोज़ अच्छे नहीं लगते आंसू
खास मौको पर मजा देते हैं

(13)
Andhera hai kaise tera khat padhun
lifaafe mein kuch raushni bhe de

अंधेरा है कैसे तेरा खत पढ़ा
जिंदगी में कुछ रोशनी भी दे

(14)
Aaj fir mujhse kaha dariya ne
kya irada hai baha le jaau

आज फिर मुझसे कहा दरिया ने
क्या इरदा है बहा ले जाउ

(15)
Kuch to is dil  ko saza di jaaye
uski tasweer hata di jaaye

कुछ तो इस दिल को सज़ा दी जाये
उसकी तस्वीर हटा दी जाए

(16)
Jise anzaam tum samajhti ho
ibtida hai kisi kahani ki

जिस अंजाम तुम समजति हो
इब्तिदा है किसी कहानी की

अज्ञात शायरों की शायरी

(17)
Soorma jiske kinaaro se palat aate hai
maine kashti ko utaara hai usi paani mein

सूरमा जिसके किनारो से पलट आते हैं
मैंने कशती को उतारा है उसी पानी में

(18)
Maut ke darinde mein ek kashis to hai “sarwat”
log kuch bhi kehte ho khud-khushi ke baare mein

मौत के दरिन्दे में एक काशी तो है “सरवत”
लोग कुछ भी कहते हैं खुद-खुशी के बारे में

(19)
Sochta hun ki usse bach niklun
bach nikalne ke baad kyaa hoga

सोचा हुं की उसे बच्चा निकलू
बच निकलने के बाद क्या होगा

(20)
mitti pe numudaar hai paani ke zakhire
ime koi aurat se jyada nahi ghehra

मिट्टी पे नंबरदार है पानी के ज़ख़ीरे
मुझे कोई औरत से ज्यादा नहीं घेरा

अज्ञात शायरों की शायरी

(21)
Do hi chize is dharti mein dekhne waali hai
mitti ki sundarta dekho aur mujhe dekho

दो ही चिजे धरती में देखने वाली है
मिट्टी की सुंदरता देखो और मुझे देखो

(22)
Milna aur bichad jaana kisi raste par
ek yahi kissa aadmiyon ke saath raha

मिलना और बिछड़ जाना किसी रास्ते पर
एक याहि किस्सा आदमियों के साथ रहा:

(23)
“Sarwat” tum apne logo se yun milte ho
jaise un logo se milna fir nahi hoga

“सरवत” तुम अपने लोगो से यूं मिलते हो
जैसे उन लोगो से मिलना फिर नहीं होगा

(24)
Paao saakit ho gaye “SARWAT” kisi ko dekh kar
ek kashish mehtaab jaisi chehra-e-dilbar mein thi

पाओ साकित हो गए “सरवत” किसी को देख कर
एक कशिश मेहताब जैसी चेहरा-ए-दिलबर में थी

(25)
Bujhi rooh ki pyaas lekin sakhi
mere saath mera badan bhi to tha

बूझी रूह की प्यास लेकिन सखी
मेरे साथ मेरा बदन भी तो था

(26)
Har subah nikalna kisi deewar-e-tarab se
har shaam kisi manzil-e-ghumnaam pe hona

हर सूबा निकालना किसी दीवार-ए-तरब से
हर शाम किसी मंजिल-ए-घुमनाम पे होना

(27)
Khush-libaasi hai badi chiz magar kya kize
kaam is pal hai teere jisam ki uryaani se

खुश-लिबसी है बड़ी चिज मगर क्या करें
काम पल है तेरे जिस्म की उरयानी से

 

मशहूर शायरी रेख़्ता

 

(28)
Main aag dekhta tha aag se juda kar ke
bala ka rang tha rangini-e-kaba se udhar

मैं आग देखता था आग से जुड़ा कर के
बाला का रंग था रंगिनी-ए-कबा से उधारी

(29)
Apne apne ghar jaakar sukh ki neend so jaaye
tu nahi khasaare mein , main nahi khasaare mein

अपने अपने घर जाकर सुख की नींद सो जाये
तू नहीं खासे में, मैं नहीं खासे में

(30)
Ye jo roshni hai kalaam mein ki baras rahi hai tamaam mein
mujhe sabra ne ye samar diya mujhe zabad ne ye hunar diye

ये जो रोशनी है कलाम में की बरस रही है तमाम में
मुझे सबरा ने ये समर दिया मुझे ज़बाद ने ये हुनर दीये

(31)
Sheehzaadi tujhe kaun bataye tere charaz-kade tak
kitni mehraabein padti hai kitne dar aate hai

शहजादी तुझे कौन बतायें तेरे चरज-कड़े तक
कितनी महराबीन पड़ी है कितने डर आते हैं

 

चुनिंदा शायरों की शायरी

 

(32)
Husn-e-bahaar mujhko mukammal nahi laga
mainne taraash li hai khizaa apne haath se

हुस्न-ए-बहार मुझे मुकम्मल नहीं लगा
मैंने तारश ली है खिजा अपने हाथ से

(33)
main kitaab-e-khaakh kholun to khule
kyaa nahi maujood kyaa maujood hai

मुख्य किताब-ए-खाख खोलून से खुले
क्या नहीं मौजूद क्या मौजूद है

(34)
Ek daastaan ab bhi sunaate hai fursh-o-baam
wo kaun thi jo raks ke aalam mein mar gai

एक दास्तां अब भी सुनाते हैं फरश-ओ-बाम
वो कौन थी जो रक्स के आलम में मर गई

(35)
Nai nai si aag hai fir kaun hai wo
peele fuloon ghehre surkh libaazo waali

नई नई सी आग है फिर कौन है वो
पीले फूलन गेहरे सुरख लिबास वाली

Thank You .

Doston hmare shayri ko padhne k liye bht bht dhnaywaad . Hme comment krke jrur btayen ki apko hmara content kesa lga . ese or bi shayari k liye app hme follow karen .

अज्ञात शायरों की शायरी

Leave a Comment