BEST 15 | ताबड़तोड़ शायरी | Taabadtod shayari | 2022

BEST 15 | ताबड़तोड़ शायरी | Taabadtod shayari | 2022

ताबड़तोड़ शायरी
ताबड़तोड़ शायरी

 

ताबड़तोड़ शायरी: Hello  Doston toh yar kese ho app sabhi log swagat h app sabhi ka shayarhindi.com pr doston aaj hm apke liye kuch ese content leke aaye hai jisse  apko apke life me bhttt madad milege ताबड़तोड़ शायरी .

doston hm sub k life me kbi na kbi esa wqt jrur aata hai jaha hm andr se tut jate hain charo traf bus naummid hi dikhti h uss wqt me hme kuch shara chahiye hota h wps uthne k liye . aaj is post me ताबड़तोड़ शायरी   apka whi sahara bengi .  doston   agr apke life me kisi bi trha ki dikkat ho toh hme hmare mail k teht contact kre hmse jo ban skega hm apke liye krenge . Agar ap shyari k shokin h toh hmare home page k menu pr jerur visit kre . No 35  jrur padhna bhtt khass hai .


HINDUISM!

Click below for more !

[ ताबड़तोड़ शायरी ]

ताबड़तोड़ शायरी
ताबड़तोड़ शायरी


(1)

Mukhaute bachpan mein dekhe thay,mele mein tange huwe
samajh badhi to dekha logon ,pe hai chadhe huwe.

मुखौटे बचपन में देखे थे, मिले में टंगे हुए
समझ बढ़ी तो देखा लोगों पर पे है चढ़े हुए।

(2)

Kuch yun huwa ki ,jab bhi jarurat padi mujhe
har shaksh iteffaq se majboor ho gaya!

कुछ यूं हुआ की, जब भी जरुरत पड़ी मुझे
हर शक इत्तेफाक से मजबूर हो गया!

(3)

Mujhko chodne ki wajah to bata de
mujhse naaraz thay yaa
mujh jaise hazaaron thay!

मुझे चोदने की वजह तो बता दे
मुझसे नाराज़ था या
मुझे जैसे हज़ारों था!

(4)

Insaan ki achai par
sab khaamosh rhehte hai charcha
agar uski buraai par ho,
to gungey bhi bol padte hai.

इंसान की अच्छी परी
सब खामोश रहते हैं चर्चा
अगर उसकी बुरी पर हो,
तो गुंगे भी बोल पाते हैं।

(5)

Dhundhna hi hai to parwaah karne waale dhundhiye sahab..
istemaal karne waale to khud hi aapko dhund lenge

धुंधना ही है तो परवाह करने वाले धुंढिये साहब..
इस्तमाल करने वाले तो खुद ही आपको धुंड लेंगे

(6)

Mujhko kya haq,
main kisi ko matlabi kahu..
main khud hi khuda ko,
musibat mein yaad karta hun.

मुझे क्या हक,
मैं किसी को मतलबी कहू..
मैं खुदा ही खुदा को,
मुसिबत में याद करता हूं।

(7)

Aaj gumnaam hun to zara
faasla rakh mujhse..
kal fir mashhoor ho jaau
to koi rishta nikaal lena.

आज गुमनाम हूं तो जरा
फासला रख मुझसे..
कल फिर मशूर हो जाऊ
कोई रिश्ता निकला लेना।

(8)

Dekh ke duniya ab hum
bhi badlenge mijaaz  rishta
sab se hoga lekin
vaasta kisi se nahi.

देख के दुनिया अब हम
भी बदलेंगे मिजाज़ रिश्ता
सब से होगा लेकिन
वास्तु किसी से नहीं।

(9)

Meri taareef karein yaa mujhe badnaam kare,
jisne jo baat karni hai sar-e-aam kare.

मेरी तारिफ करें या मुझे बदनाम करें,
जिसने जो बात करनी है सर-ए-आम करे।

(10)

Na jaane kaisi nazar lagi hai
zamaane ki ab wajah nahi milti muskuraane ki

न जाने कैसी नज़र लगी है
जमाने की अब वजाह नहीं मिली मुस्कान किस

(11)

Maslaa yeh bhi hai
is jaalim duniya ka..
koi agar acha bhi hai
to wo acha kyon hai…

मसाला ये भी है
जालिम दुनिया का है..
कोई अगर अच्छा भी है
तो अच्छा क्यों है…

(12)

Jab dost dhokha dete hain,
to gyaanroopi aankhein khul jaati hai.

जब दोस्त धोखा देते हैं,
तो ज्ञानरूपी आंखें खुल जाती है।

ताबड़तोड़ शायरी
ताबड़तोड़ शायरी

(13)

Kaise bharosa karu gairon ke pyaar par,
yaha apne hi maza lete hain apnon ki haar par.

कैसे भरोसा करू गैरों के प्यार पर,
याहा अपने ही मजा लेते हैं अपने की हार पर।

(14)

Zindagi jeene ka kuch
aisa andaaz rakho,
matlabi doston ko
nazarandaaz rakho.

जिंदगी जीने का कुछ
ऐसा अंदाज रखो,
मतलाबी दोस्त को
नज़रंदाज़ राखो।

(15)

Matlabi duniya ke log
khade hai haathon mein patthar lekar,
main kahan tak bhaagu shishe ka mukaddar lekar.

मतलबी दुनिया के लोग
खड़े हैं हाथों में पत्थर लेकर,
मैं कहां तक ​​भागू शीश का मुकद्दर लेकर।

(16)

Is matlabi duniya mein dosti sirf ek dikhawa hai,
tujhe bhi dhoka milega,ye mera dawa hai.

क्या मातबी दुनिया में दोस्ती सिर्फ एक दिखवा है,
तुझे भी धोखा मिलेगा, ये मेरा दावा है।

(17)

Bure waqt ki sabse achi
baat yeh hai ki jab ye
aata hai tab matlabi
dost dur ho jaatey hai.

बुरे वक्त की सबसे अच्छी
बात ये है की जब ये
आता है टैब मतलाबी
दोस्त दूर हो जाते हैं।

(18)

Ache dost kabhi matlabi nahi hota hai,
matlabi log kabhi ache dost nahi hote hai.

अच्छे दोस्त कभी मातबी नहीं होता है,
मतबी लोग कभी अच्छे दोस्त नहीं होते हैं।

(19)

Majboot hone mein maza hi tab hai,
jab saari duniya kamzor karne par tuli ho..

मजबूर होने में मजा ही तब है,
जब सारी दुनिया कमज़ोर करने पर तुली हो..

(20)

Matlabi ladki se achi to meri cigaratte hai yaaro..
jo mere hoth se apni zindagi shuru karti hai
aur mere kadmo ke niche apna dam tod deti hai!

मतलबी लड़की से अच्छी तो मेरी सिगरेट है यारो..
जो मेरे होते से अपनी जिंदगी शुरू करती है
और मेरे कदमों के आला अपना बांध तोड़ देती है!

(21)

Main logon kee tarah milaavat nahi karta
mohobbat ho ya nafrat

मैं लोगों की तरह मिलावत नहीं करता
मोहब्बत हो या नफ़रत

(22)

Har jagah roshan hai koi light hai
jisne bhi liya hai panga mujhse
saale ki hawa tight hai.

हर जग रोशन है कोई रोशनी है
जिसने भी लिया है पंगा मुझसे
साले की हवा टाइट है।

(23)

Awaara lafzon ko panaah dekar
un lafzon ki shaayaree bana denge khubsurat
khayaalon ko kaid kar unke geet bana denge

आवारा लफ़्ज़ों को पाना दकरी
उन लफ्जों की शायरी बना दूंगा खूबसूरत
ख्यालों को कैद कर उनके गीत बना देंगे

(24)

Ab in aankhon se bhi jalan hoti hai mujhe
khuli ho to yaad tairi ,
aur band ho to khwaab tere.

अब इन आँखों से भी जालान होती है मुझे
खुली हो तो याद तेरी,
और बंद हो तो ख्वाब तेरे।

(25)

Naa jaane kitne aankhein baatein
saath le jaayenge log jhooth kehte hai ki,
Khaalee haath khalee aaye hai
khaalee haath jaayenge.

ना जाने कितने आँखें बातें
साथ ले जाएंगे लोग झूठ कहते हैं की,
खली हाथ खली आए हैं
खली हाथ जाएंगे।

ताबड़तोड़ शायरी
ताबड़तोड़ शायरी

Thank You.

Doston aap sabhi ka bhtt dhanywaad hmare ताबड़तोड़ शायरी  blogpost ko pahne ke liye . doston comment jrur kare apke comet se hamara hoosla badhta hai . Hm apke liye ese hi majedar or dhuwadar jokes and  shayari laate rehege .

( shayarhindi sigininf off…… )

 

Leave a Comment