5 HEART TOUCHING ! पुराने शायरों की शायरी | Purane shayaro ki shayari | 2022 |

5 HEART TOUCHING ! पुराने शायरों की शायरी | Purane shayaro ki shayari | 2022 |

 

 

 

पुराने शायरों की शायरी : Hello doston to fir se ek baar swaagat hai aap sabhi ka shayarhindi.com par . Aaj hum aap sabhi ke liye lekar aaye hai top 5 पुराने शायरों की शायरी .  kuch mahaan hastiyaan hai jinhone shuruwaat ki hamare dil ki baaton ko kore kagaz pe utarne ki . jinki shayari sun ke aaj bhi dilon me fool khil uthate hai . Aaj is post ke dwara main aap sabhi ko unme se kuch ki shayri pe ghor karwana chahtu hun. Toh hamare saath bane rahe is post ke end tak aur agr aapko hindi shayari ka shaukh hai toh hamare site par jarur visit kare .

 

Click below for more quotes

Tareef shayari for status
Attitude shayari for boys 

Royal Dabbang hindi status shayari . 
Chaturai par shayari for What’s app status .
मनहूस पर शायरी  hindi shayar .
Positive Quotes in Hindi for life
कब्रिस्तान हॉरर स्टोरी इन हिंदी
डोरेमोन की असली कहानी
इतिहास बदलने वाली शायरी

 

[ पुराने शायरों की शायरी ]

 

Mirza galib

 

MIRZA GHALIB

 

WHO IS MIRZA GHALIB ?

(1)

Wo aaye ghar mein hamare
khuda ki kudrat hai
kabhi hum unko
kabhi apne ghar ko dekhte hai

वो आए घर में हमारे
खुदा की कुदरत है

कभी हम उनको
कभी अपने घर को देखते हैं

(2)


har ek baat pe kehte ho tum ki kya hai

tumhi kaho ki ye andaaz-e-guftagu kya hai

हर एक बात पे कहते हैं तुम की क्या है
तुम्हारी कहो की ये अंदाज़-ए-गुफ़्तगु क्या है

 

(3)

Hui muddat ki ‘ghalib’ mar gaya par yaad aata hai
wo har ek baat par kehna ki yun hota to kya hota

हुई मुद्दत की ‘गालिब’ मर गया पर याद आता है
वो हर एक बात पर कहना की यूं होता तो क्या होता

 

(4)


bijli ek kaundh gayi aankhon ke aage to kya,
baat karte ki main lab tashra-e-takreer bhi tha.

बिजली एक कौंध गई आंखों के आगे तो क्या,
बात करते की मैं लब तशरा-ए-तकरीर भी था।

 

(5)

Yahi hai aazmana to sataana kisko kehte hai
adu ke ho liye jab tum to mera imtehaan kyon ho.

यही है आज़माना तो सताना किसको कहते हैं
अदु के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तेहान क्यों हो।

 

top पुराने शायरों की शायरी

उर्दू के मशहूर  पुराने शायरों की शायरी

 

 

पुराने शायरों की शायरी

FAIZ AHMAD FAIZ

 

WHO IS FAIZ AHMAD FAIZ ?


(1)

Kab thehrega dard e dil
kab raat basar hogi,
sunte thay wo aayenge
sunte thay sehar hogi

कब थेरेगा दर्द ए दिलो
कब रात बस होगी,
सुन्ते थे वो आएंगे
सुन्ते द सेहर होगी

(2)

Saari duniya se dur ho jaaye 
jo zara tere paas ho baithe

सारी दुनिया से दूर हो जाये
जो जरा तेरे पास हो बैठे

(3)

Dil se to har muaamla
kar ke chale thay saaf hum,
khehne mein unke saamne baat
badal badal gayi

दिल से तो हर मुआमला
कर के चले थे साफ हम,
कहने में उनके सामने बाते
बादल बादल गई

(4)

Ab apna ikhteyaar hai
chaahe jaha chalein,
rehbar se apni raah juda 
kar chuke hai hum

अब अपना इख्तियार है
चाहे जहां चलें,
रहबर से अपनी राह जुदा
कर चुके हैं हम

(5)

Aur bhi dukh hai zamane mein mohabbat ke siva
rahatein aur bhii hain vasl ki rahat ke siva

और भी दुख है जमने में मोहब्बत के शिव
रहते और भी हैं वस्ल की राहत के शिव

MUST READ पुराने शायरों की शायरी

 

पुराने शायरों की शायरी

JAVED AKHTAR

 

WHO IS JAVED AKHTAR ?



(1)


Zara mausam to badla hai magar peido

ki shaka par naye patton ke aane mein
abhi kuch din lagenge,
bahut se zard chehron par ghubaar-e-gham hai
kam beshak par unko muskuraane mein abhi din lagenge.

ज़रा मौसम तो बदला है मगर पीडो
की शक पर नए पत्तन के आने में
अभी कुछ दिन लगेंगे,
बहुत से ज़र्द चेहरे पर ग़ुबार-ए-ग़म है
कम बेशक पर उनको मस्कुराने में अभी दिन लगेंगे।

(2)

Mujhe dushman se bhi khuddaari ki umeed rehti hai
kisi ka bhi ho sar kadmon mein sar acha nahi lagta

मुझे दुश्मन से भी खुददारी की उम्मीद रहती है
किसी का भी हो सर कदमों में सर अच्छा नहीं लगता

 

(3)

Is sheher mein jeene ke andaaz niraale hai
hothon pe takleefin hai aawaz mein chaale hai

क्या शहर में जीने के अंदाज़ निराले है
होथों पर तकलीफिन है आवाज में चले हैं

(4)

Hum to bachpan mein bhi akele thay
sirf dil ki gali mein khele thay

हम तो बचपन में भी अकेले थे
सिर्फ दिल की गली में खेले थे

(5)

Yaad use bhi ek adhoora afsaana to hoga
kal raste mein usne humko pehchana to hoga

याद का उपयोग भी एक अधूरा अफसाना से होगा
कल रास्ते में उसे हमको पहचान तो होगा

 

 

पुराने शायरों की शायरी

ADA JAFRI

WHO IS ADA JAFRI ?



(1)

Haath kaato se kar liye zakhmi
ful baalo mein ek sajaane ko

हाथ काटो से कर लिए ज़ख्मी
फुल बालो में एक सजाने को

(2)

Main aandhiyon ke paas talaash-e-saba mein hun
tum mujhse puchte ho mera hausla hai kya

मैं आंधियों के पास तलाश-ए-सबा में हूं
तुम मुझसे पुछते हो मेरा हौसला है क्या

 

(3)

Hamare shehar ke logo ka ab ahwaal itna hai
kabhi akhbaar padh lena kabhi akhbaar ho jaana

हमारे शहर के लोगो का अब अहवाल इतना है
कभी अखबार पढ़ना लेना कभी अखबार हो जाना

 

(4)

Agar sach itna zaalim hai to humse jhuth hi bolo
humein aata hai patjhad ke dino mein gul-baar ho jaana

अगर सच इतना ज़ालिम है तो हमसे झूठ ही बोलो
हमें आता है पतझड़ के दिनों में गुल-बार हो जाना

 

(5)

Jiske baaton ke fasaane likhe
usne to kuch na kaha tha shayad

जिसके बातों के फसाने जैसे
उसने तो कुछ न कहा था शायद

चुनिंदा पुराने शायरों की शायरी
best पुराने शायरों की शायरी
most wanted पुराने शायरों की शायरी

 

पुराने शायरों की शायरी
पुराने शायरों की शायरी

AMIR KHUSRO

 

WHO IS AMIR KHUSRO ?

(1)

Saajan ye mat jaaniyo tohe bichhadat mohe ko chain,
diya jalat hai raat mein aur jiya jalat bin rain.

साजन ये मत जानियो तोहे बेचारत मोहे को चेन,
दिया जलत है रात में और जिया जलात बिन बारिश।

 

(2)

Angana to parbat bhayo,deharee bhi videsh,
ja baabul ghar aapne,main chali piya ke desh.

अंगना तो परबत भायो, देहरी भी विदेश,
जा बाबुल घर आपने, मैं चली पिया के देश।

 

(3)

Rain bina jag dukhi chandar bin rain,
tum bin saajan main dukhi aur dukhi daras bin nain.

बारिश बिना जग दुखी चंदर बिन बारिश,
तुम बिन साजन मैं दुखी और दुखी दरस बिन नैन।

 

(4)

Aa saajan more nayanan mein,
so palak dhaap tohe doon,
na main dekhun aur na koi,
na tohe dekhan doon.

आ साजन मोर नयन में,
तो पलक धाप तोहे दूं,
ना मैं देखता और ना कोई,
ना तो देख दूं।

 

(5)

Khusaro baaji prem ki main khelun pee ke sang,
jeet gayi to piya more hari pee ke sang

खुसरो बाजी प्रेम की मैं खेलूं पी के संग,
जीत गई से पिया मोरे हरि पी के संग

 

(6)

Apni chhavi bnai ke main to pee ke paas gayi
jab chhavi dekhi peeho ki so apni bhul gayi

अपनी छवी बनने के मैं तो पेशाब के पास गई
जब छवि देखी पीहू की इतनी अपनी भूल गई

EPIC पुराने शायरों की शायरी

 

(7)

Khusro paati prem ki birla baanchey koi,
ved, kuraan, pothee  ,padhe
prem bina kaa hoye.

खुसरो पति प्रेम की बिरला बाँछे कोय,
वेद, पुराण, पोथी , पढे
प्रेम बिना का होय।

 

(8)

Khusro dariya prem ka ,
ulte vaakee dhaar,
jo utara so doob gaya,
jo dooba so paar.

खुसरो दरिया प्रेम का,
अल्टी वाकी धर,
जो उतरा सो डूब गया,
जो डूबा सो पार।

 

(9)

Kheer paaki jatan se, charakha diya jalaye,
aaya kutta kha gaya,to baithe dhol bajaye.

खीर पके जतन से, चरखा दिया जले,
आया कुट्टा खा गया, तो बैठे ढोल बजाये।

 

GREAT पुराने शायरों की शायरी

(10)

Khusro rain suhaag ki jaagi pee ke sang,
tan mero man piyo ko , dou bhaye ek rang.

खुसरो बारिश सुहाग की जगी पी के संग,
तन मेरो मन पियो को, दो भाये एक रंग।

 

Thank You .

Doston hmare shayri ko padhne k liye bht bht dhnaywaad . Hme comment krke jrur btayen ki apko hmara content kesa lga . ese or bi shayari k liye app hme follow karen .

पुराने शायरों की शायरी

Leave a Comment