Top 5 Moral stories | मोरल स्टोरीज इन हिंदी | 2022


Top 5 Moral stories |

मोरल स्टोरीज इन हिंदी | 2022

 

मोरल स्टोरीज इन हिंदी
मोरल स्टोरीज इन हिंदी

 

मोरल स्टोरीज इन हिंदी :- Hello doston! shayarhindi.com mein aap sabhi ka bahut bahut swaagat hai . Aaj hm lekar aaye hai aapke gharo ke chote chote baccho ke liye  मोरल स्टोरीज इन हिंदी . Bachho ko naitikta sikhana ghar ke bado ka kaam hota hai . aur hm sabhi ko ye pta hai ki baccho ko samjha kitna mushkil hota hai . To aasha karte hai ki hamari मोरल स्टोरीज इन हिंदी kahaniyon se aapki kuch madad ho paayegi.
To padhiye is post ko aur sikhaiye bachho ko kch alg andaaz mein . Aur story no. 3 ko jarur padhe !

Education of poor kids !

 

click below for more quotes

Tareef shayari for status
Attitude shayari for boys 

Royal Dabbang hindi status shayari . 
Chaturai par shayari for What’s app status .
मनहूस पर शायरी  hindi shayar .
Positive Quotes in Hindi for life
बेडटाइम स्टोरी फॉर किड्स इन हिंदी

 

 

{ मोरल स्टोरीज इन हिंदी }

(1)

AALSI HONE KA NATEEZA

Utkarsh bada hi aalsi ladka tha . Wah padhai mein bahut kamzor tha aur aksar pariksha mein fail ho
jaaya karta tha . Apni maa se jhooth bol kar wah paise le liya karta aur mitron ke saath ghumta.

Ek din school chootne ke baad Utkarsh shaam ke samay ghumne nikala . Usne socha ki phehle main chalkar
naashta kar leta hun . Wah ek hotel mein ghusa . Hotel se nikal kar uski ikcha cinema dekhne ki hui . Tabhi
usne dekha ki uske joote gande ho gaye hai aur usne socha ki kiu naa un par thodi polish lagwa di jaaye . Yeh
sochkar wah saamne ki ore badh gaya . Wahi ek ped ke niche ek budha aadmi mochi kaa kaam kar raha tha.

Utkarsh ne apna daahina pair uske saamne kar diya , aur us budhe aadmi ne apni polish ki dibiya kholi aur man
lagakar polish karne mein joot gaya . Tabhi us budhe aadmi ka beta maamuli bheshbhusha mein waha aaya .
Uske haath mein kuch kitaabein thi . Wah school se sidha hi chala aa raha tha . Aate hi usne pustak ek kinaare
rakh di , aur bade prassan man se apne pita se bola , “Bapu, ab tum utho . Din bhar kaam karte karte tum thak
gaye honge . Zara aaram kar lo . Sir ke joote main chamka deta hun . “

मोरल स्टोरीज इन हिंदी for lazy students

Apne bete ki baat sunkar budha aadmi dheere se utha aur ghar ki ore chal diya . Yeh sab dekh kar to Utkarsh
achrach mein pad gaya . Usne pucha , ” kyon bhai , kya tum kahi naukari karte ho ? ” Ji nahi, main padhta hun.”
Budhe aadmi ke bete ne kaha. ” Lekin uske baad bhi tum yah neech kaam karte ho,kya tumhe sharam nahi aati?”
Utkarsh ne pucha . “Kaam karne mein kaisi sharam . Mere bapu yahi kaam kar ke mujhe padha likha rahe hai.
Shaam ko main unki madad kiya karta hun . Budhe ho gaye hai na, thak jaate hai . Unki har tarah se madad karna
main apna kartawya samajhta hun . Duniya mein koi kaam chota nahi hota , darasal jo kaam karta hai use hi bada
aadmi kehte hai” us ladke ne jawab diya.

SHIRSHAK : Humein apne kartawya ka ehsaas hona chahiye aur use man lagakar pura karna chahiye

best | मोरल स्टोरीज इन हिंदी
मोरल स्टोरीज इन हिंदी for small children

उत्कर्ष बड़ा ही आलसी लड़का था। वह पढाई में बहुत कामजोर था और अक्सर परीक्षा में फेल हो
जय कर्ता था। अपनी मां से झूठ बोल कर वाह पैसे ले लिया करता और दोस्तों के साथ घुमता।

एक दिन स्कूल छुटने के बाद उत्कर्ष शाम के समय घुमने निकला। उसे सोचा की पहले मैं चलकर नाश्ता
कर लेता हूं। वह एक होटल में घुसा। होटल से निकल कर उसे चाहता सिनेमा देखने की हुई। तभी
उसे देखा की उसके जूते गंदे हो गए हैं और उसे सोचा की उन पर थोड़ी पॉलिश लगवा दी जाए। ये
सोच वाह सामने की ओर बढ़ा गया। वही एक पेड़ के आला एक बुद्ध आदमी मोची का काम कर रहा था।

मोरल स्टोरीज इन हिंदी AALSI BACHO KE LIYE

उत्कर्ष ने अपना दहिना जोड़ी उसके सामने कर दिया, और हमें बुद्ध आदमी ने अपनी पॉलिश की दिबिया खोली और आदमी
लगाकर पॉलिश करने में जूट गया। तबी उस बुद्धे आदमी का बेटा मामुली भेशभूषा में वह आया।
उसके हाथ में कुछ किताबें थीं। वाह स्कूल से सिद्ध ही चला आ रहा था। आते ही उसे किताब एक किनारे
रख दी, और बड़े प्रसन्न मन से अपने पिता से बोला, “बापू, अब तुम उठो। दिन भर काम करते करते तुम ठक
गए होंगे। जरा आराम कर लो। सर के जूते मैं चमका देता हूं। “

मोरल स्टोरीज इन हिंदी kids will enjoy

अपने बेटे की बात सुनकर बुद्ध आदमी धीरे से उठ और घर की ओर चल दिया। ये सब देख कर से उत्कर्षी
अच्च में पद गया। उसे पुचा, “क्यों भाई, क्या तुम कहीं नौकरी करते हो?” जी नहीं, मैं पढ़ता हूं।
बुद्धे आदमी के बेटे ने कहा। “लेकिन उसके बाद भी तुम या नीच काम करते हो, क्या तुम्हें शर्म नहीं आती?”
उत्कर्ष ने पुचा। “काम करने में कैसी शर्म। मेरे बापू यहीं काम कर के मुझे पढ़ा लिखा रहा है।
शाम को मैं उनकी मदद किया करता हूं। बुधे हो गए हैं ना, ठक जाते हैं। उनकी हर तरह से मदद करना:
मैं अपना करता हूं समजता हूं। दुनिया में कोई काम छोटा नहीं होता, दरसल जो काम करता है उसका इस्तेमाल करें बड़ा
आदमी कहते हैं” हम लड़के ने जवाब दिया।

SHIRSHAK: हमें अपने कर्तवय का एहसास होना चाहिए और कर्तवय मन लगाकर पूरा करना चाहिए |

मोरल स्टोरीज इन हिंदी for kids
मोरल स्टोरीज इन हिंदी for nursery students.

(2)

SAFALTA PAR GHAMAND NAA KARE

Anup aur Kalpesh  do ache dost thay . Way dono ek hi class mein saath mein hi padhte thay. Padhai mein
dono hi bade hoshiyaar thay. Padhai karna unka pehla kaam tha . Anya chizo par way baad mein dhyaan
dete thay. Padhai mein un dono ka mukaabala rehta tha . Kabhi Anup pratham aata tha , to kabhi Kalpesh.
Dono mein yeh batana mushkil tha ki padhai mein kaun aage hai. Dono ko unke class teacher bhi bahut
chaahte thay. Class ke sabhi bachhe un dono ka bahut aadar karte thay, kyonki way dono hoshishiyaar
hone ke saath saath dayaalu aur naman swabhaaw ke thay.

मोरल स्टोरीज इन हिंदी about safalta..

Kaksha 8 ki pariksha hui Dono ne jamkar pareeksha di. Pariksha kaa result bhi ghoshit huaa. Iss baar ki pariksha
mein Anup aur Kalpesh ke saath sabhi dang reh gaye. kyuki Kalpesh ne Anup se 50 marks ki baazi maar li. Ghar
lauute waqt Anup ne Kalpesh se kaha “waah ! tumne to is baar baazi maar li.” Kalpesh muskuraate huwe bola
“Nahi nahi aisa nahi hai.” Kalpesh ke man mein abhimaan jaag gaya . Aur wo dheere dheere bhatakne laga.

Dheere dheere pariksha aane lagi. Class ke sabhi bacche jee jaan se padhai mein lag gaye thay. Kalpesh bahut hi
aaram mein tha kyon ki usee pata tha ki class mein pehla sthaan usse koi nahi cheen sakta hai. Pariksha hui, kuch
dino baad pariksha ka result aa gaya. Is baar Anup class mein sabse pehle sthaan par aaya tha, jabki Kalpesh iss
baar apni pariksha ka result dekhkar chauk pada . Wah pariksha mein fail tha. Kalpesh ko apni karni ka fal mil chuka tha.

SHIRSHAK : Humein apni safalta par kabhi ghamand nhi karna chahiye!

मोरल स्टोरीज इन हिंदी best for kids

अनूप और कल्पेश दो अच्छे दोस्त थे। वे दोनो एक ही क्लास में साथ में ही पढ़ते थे। पढाई में
दोनो ही बड़े होशियार थे। पढाई करना उनका पहला काम था। अन्या चिज़ो पर वे बाद में ध्यान
डिटे थाय। पढाई में उन दोनो का मुकाबाला रहता था। कभी अनूप प्रथम आता था, तो कभी कल्पेश।
दोनो में ये बताना मुश्किल था की पढाई में कौन आया है। दोनो को उनके क्लास टीचर भी बहुत
चाहते थे। क्लास के सभी बच्चे उन दोनो का बहुत आधार करते थे, क्योंकी वे दोनो होशियार
होने के साथ साथ दयालु और नमन स्वभाव के थे।

कक्ष 8 की परीक्षा हुई दोनो ने जामकर परीक्षा दी। परीक्षा का परिणाम भी घोषित हुआ। इस बार की परीक्षा
में अनूप और कल्पेश के साथ सबी दंग रह गए। क्यूकी कल्पेश ने अनूप से 50 मार्क्स की बाजी मार ली। घरो
लौटते वक्त अनूप ने कल्पेश से कहा “वाह !तुमने तो बार बाजी मार ली।” कल्पेश मस्कुराते हुए बोला
“नहीं ऐसा नहीं है।” कल्पेश के मन में अभिमान जग गया। और वो धीरे-धीरे भटकने लगा।

lovely मोरल स्टोरीज इन हिंदी

धीरे धीरे परीक्षा आने लगी। क्लास के सभी बच्चे जी जान से पढाई में लग गए थे। कल्पेश बहुत हाय
आराम में था क्यों की उसे पता था की क्लास में पहला स्थान उससे कोई नहीं छीन सकता है। परीक्षा हुई, कुचू
दिनो बाद परीक्षा का परिणाम आ गया। इस बार अनूप क्लास में सबसे पहले स्थान पर आया था, जबकी कल्पेश इस्स
बार अपनी परीक्षा का परिणाम देख कर चौक पड़ा। वाह परीक्षा में फेल था। कल्पेश को अपनी करनी का फल मिल गया था।

SHIRSHAK : हमें अपनी सफल पर कभी घमण्ड नहीं करना चाहिए!

मोरल स्टोरीज इन हिंदी to help parents
make your children learn moral by मोरल स्टोरीज इन हिंदी

(3)

GHAR KE SANSKAAR

Chandrakaant aur Somnaath ek hi class mein padhte thay aur way ek dusre ke padosi bhi thay. Somnaath padhai
ke saath – saath khelne mein bhi acha tha aur Chanrakaant school chootne ke baad sirf khelta aur gaao bhar
ghumta rehta tha. Ek din school mein khel diwas aayojit kiya tha aur Somnaath ne kai khel mein hissa liya tha.
Chandrakaant ne khel diwas par koi bhi khel mein hissa nahi liya tha , wah sirf apne doston ke saath ground par
dusre chaatron ka mazak udda raha tha.  Agle din school mein prize witran samaaroh huaa, Somnaath ne kai inaam
jeet liye thay . Chandrakaant ko kai ghante bench par khada kiya gaya.

Chandrakaant ne yeh baat apni maa ko batai . Uski maa ne usi apni beizzatti samjhi . Wah Somnaath ke ghar jaakar
uski maa se ulaahna dene lagi, “Are inaam kya mil gaya hai ki saare school mein ghuma ghuma kar dikha raha tha.
Aur hamare Chandrakaant ko bench par khada karwa diya .” “Kisne khada karwa diya Somnaath ne ?
” Somnaath ki maa ne pucha. Unhe puri sthithi ka pata nahi tha. “Haa , aur kyaa?” Chandrakaant ki maa ne gusse mein kaha.

ghar ke sanskaar par मोरल स्टोरीज इन हिंदी

Chandrakaant ki maa ka gussa badhta hi jaa raha tha. Tabhi Somnaath ghar mein aaya . Aate hi usne utsaah mein kaha,
maa, aaj bada hi maza aa gaya !! Haa, maza kyon nahi aaya hoga? Chandrakaant ko bench par khada karwa kar tumhe
maza jo aa raha hai.” Chandrakaant ki maa bol padi. Somnaath seham gaya. Use yeh pata tha ki Chandrakaant ko bench par
khada kiya gaya tha. Wah dheere se bola,

Chaachi , Chandrakaant do din se home work karke nahi le jaa raha hai. Isliye usee saja mili. Maine kaha meri copy se
utaar le. Wah bhi wah nahi karta.” Haan , tu to bahut tez hai. Dekh lungi sabko” kehti hui wah chali gayi . Somnaath ki
maa Chandrakaant ki maa ko dekhti reh gayi. Fir unhone Somnaath ke sir par haath ferte huwe kaha,”Chal, bag rakh kar
haath muh dho le. School se itni der mein kyon aaya?” ” Maa dekho mujhe kitne saare inaam mile hai.” Somnaath apna
inaam apni maa ko dikhaate huwe bola.

SHIRSHAK : Wo kehte hai na sanskaar ghar se hi aate hai . Dusro ko dosh dene se phehle khud ko dekhe.

मोरल स्टोरीज इन हिंदी for school kids

चंद्रकांत और सोमनाथ एक ही क्लास में पढ़ते थे और वे एक दसरे के पड़ौसी भी थे। सोमनाथ पढाई
के साथ – साथ खेलने में भी अच्छा था और चंद्रकांत स्कूल चुनने के बाद सिरफ खेलता और गाओ भर
घूम रहा था। एक दिन स्कूल में खेल दिवस आयोजित किया था और सोनाथ ने का खेल में हिसा लिया था।
चंद्रकांत ने खेल दिवस पर कोई भी खेल में हिसा नहीं लिया था, वह सिरफ अपने दोस्तों के साथ ग्राउंड पर
दसरे छतों का मज़ाक उड़ रहा था। अगले दिन स्कूल में पुरस्कार वितरण समारोह हुआ, सोमनाथ ने काई इनाम
जीत लिया था। चंद्रकांत को काई घंटे बेंच पर खड़ा किया गया।

मोरल स्टोरीज इन हिंदी they will love to listen
मोरल स्टोरीज इन हिंदी sunaaiye apne pyaare bachhe ko

चंद्रकांत ने ये बात अपनी मां को बताते हैं। उसकी माँ ने उसी अपनी बेइज़्ज़ती समझी। वाह सोमनाथ के घर जाकारि
उसकी मां से उल्हाना देने लगी, “अरे इनाम क्या मिल गया है के सारे स्कूल में घुमा घुमा कर दिख रहा था।
और हमारे चंद्रकांत को बेंच पर खड़ा करवा दिया।” “किसने खड़ा करवा दिया सोमनाथ ने?
“सोमनाथ की मां ने पुचा। उन्हे पूरी स्थिति का पता नहीं था। “हा, और क्या?” चंद्रकांत की मां ने कहा।

चंद्रकांत की मां का गुस्सा बढ़ा ही जा रहा था। तबी सोमनाथ घर में आया। आते ही उत्साह में कहा,
माँ, आज बड़ा ही मज़ा आ गया !! हा, मजा क्यों नहीं आया होगा? चंद्रकांत को बेंच पर खड़ा करवा कर तुमे
मजा जो आ रहा है।” चंद्रकांत की मां बोल पड़ी। सोमनाथ सेहम गया। ये पता था की चंद्रकांत को बेंच पर का प्रयोग करें
खड़ा किया गया था। वाह धीरे से बोला,

मोरल स्टोरीज इन हिंदी FOR sanskaari bacha
मोरल स्टोरीज इन हिंदी jarur padhe

“चाची, चंद्रकांत दो दिन से घर का काम करके नहीं ले जा रहा है। इस्लिये उसे साजा मिली। मैंने कहा मेरी कॉपी से
उतर ले. वाह भी वाह नहीं करता।” हां, तू तो बहुत तेज है। देख लुंगी सबको” कहती हुई वह चली गई। सोमनाथ किस
मां चंद्रकांत की मां को देखती रह गई। फ़िर उन्होन सोमनाथ के सर पर हाथ फिरते हुए कहा, “चल, बैग रख कर
हाथ मुह दो ले। स्कूल से इतनी डर में क्यों आया?” “माँ देखो मुझे कितने सारे इनाम मिले हैं।” सोमनाथ अपना
इनाम अपनी मां को दिखाते हुए बोला।

SHIRSHAK: वो कहते हैं न संस्कार घर से ही आते हैं। दसरो को दोश देने से पहले खुद को देखो।

Thank You.

Doston aap sabhi ka bhtt dhanywaad hmare मोरल स्टोरीज इन हिंदी  blogpost ko pahne ke liye . doston comment jrur kare apke comet se hamara hoosla badhta hai . Hm apke liye ese hi majedar or dhuwadar jokes and  shayari laate rehege .

shayarhindi sigininf off…… )

Leave a Comment