25+best rahat indori shayari in hindi | राहत इंदौरी शायरी हिंदी 4 लाइन | 2022

राहत इंदौरी शायरी हिंदी 4 लाइन

25+ राहत इंदौरी शायरी हिंदी 4 लाइन | rahat indori shayari in hindi | 2022

राहत इंदौरी शायरी हिंदी 4 लाइन:  हेलो दोस्तों आप सब का स्वागत है shayarhindi.com पर। आज हम आपके लिए हैं महान शायर राहत इंदौरी की शायरी। राहत इंदौरी एक भट्ट ही बड़े लेवल के शायर हैं। जन्म 1 जनवरी 1950 | मृत्यु 11 अगस्त 2020।इस पोस्ट पर बने रह for राहत इंदौरी शायरी हिंदी 4 लाइन .

राहत इंदौरी शायरी हिंदी 4 लाइनर: Hello doston aap sabhi ka swagat hain shayarhindi.com par . aaj hm apke lye laye hain mashahur shayar rahat indori ki shayari . rahat indori ek bhttt hi bade level ke shayar hain . [Born 1 Jan 1950 | Died 11 August 2020 ]. is post pr bane rhe for राहत इंदौरी शायरी हिंदी 4 लाइनर

Who is Rahat Indori ?

 

click below !

love shayari for GF
Junun bhari shayari 
Latest shayari for gf
Kabristaan bedtime horror stories
Royal Dabbang hindi status shayari . 

Chaturai par shayari for What’s app status .
मनहूस पर शायरी  hindi shayar .
Positive Quotes in Hindi for life
Virat kohli century 2022
Motivational shayari 
Kiler motivational shayari
best study shayari for student 
Moral story for kids 
Kids short moral story 

 

                  राहत इंदौरी शायरी हिंदी 4 लाइनर

 

(1)

mein yahi kahunga ki
gulab , khwab , dawa , zeher , jaam
kya kya hai mein aa gaya hun
bata intezaam kya kya hai

में यही कहूँगा की
गुलाब , ख्वाब , दवा , ज़हर , जाम
क्या क्या है में आ गया हूँ
बता इंतज़ाम क्या क्या है

 

(2)

 

Aag ke paas kabhi
mom ko lagakar dekhun
ho izaajat agar to
tujhe haath lagakar dekhun

आग के पास कभी:
माँ को लगाकर देखो
हो इज़ाज़त अगर तो
तुझे हाथ लगाकर देखना

(3)

 

ke tufaanon seaankh milao
sailabo par waar karo
mallahon ka chakkar choddo
tair kar dariyaa paar karo

के तूफ़ानें शंख मिलाओ
सेलबो पर वार करो
मल्लाहों का चक्कर छोडो
टायर कर दरिया पार करो

 

(4)

 

phulon ki dukaanein kholo
khushboo ka wyaapaar karo
ishq khata hai ,to ye khata ek baar nahi
100 baar karo

फूलो की दुकाने खोलो
खुशबू का व्यापार करो
इश्क खाता है, तो ये खाता एक बार नहीं
100 बार करो

(5)

 

kisne dastak di,
yee dil par kaun hai;
aap to andar hain ,
bahar kaun hai.

किस दस्तक दी,
ये दिल पर कौन है;
आप तो अंदर हैं,
बहार कौन है।

(6)

Raaz jo kuch ho to
ishaaron mein bata bhi dena
haath jab unse milana
to daba bhi dena

राज़ जो कुछ हो तो
इशारों में बता भी देना
हाथ जब उनसे मिलाना
तो डबा भी देना

 

best राहत इंदौरी शायरी हिंदी 4 लाइन

(7)

 

Jhuthon ne jhuthon se kaha hai
sach bolo sarkaari aylaan hua hai
ghar ke andar jhuthon ki ek mandi hai
darwaaze par likha hua hai sach bolo

झुठों ने झुठों से कहा है
सच बोलो सरकारी आयलान हुआ है
घर के अंदर झुठों की एक मंडी है
दरवाजा पर लिखा हुआ है सच बोलो

(8)

 

Apni phehchaan mitaane ko kaha jaata hai
bastiyaan chhod ke jaane ko kaha jaata hai
pattiyaan roz gira jaati hai zehreeli hawa
aur hame ped lagane ko kaha jaata hai

अपनी पहचान मिटाने को कहा जाता है
बस्ती छोड़ के जाने को कहा जाता है
पत्तियाँ रोज़ गिरा जाति है ज़हरीली हवा
और हमें पेड़ लगाने को कहा जाता है

(9)

 

Ye zindagi sawaal thi
jawaab maangne lage
farishte aake khwaab meib hisaab maangne lage
namaaz padh ke aaye aur sharab maangne lage .

ये ज़िंदगी सायल थी
जवाब माँगने लगे
फरिश्ते आके ख्वाब मेब फैसला मांगने लगे
नमाज पढ़ के आए और शरब मांगेंगे लागे।

(10)

 

Banke ek haadsa
baazar mein aa jaayega
jo nahi hoga
woh akhbaar mein aa jaayega

बांके एक हादस
बाजार में आ जाएगा
जो नहीं होगा
वो अखबार में आ जाएगा

(11)

 

Chor ucchakon ki karo kadar
ki maloom nahi
kon kab kon si sarkaar mein aa jaayega.

चोर उचाकों की करो कदर
की मलूम नहीं
कोन कब कोn  सी सरकार में आ जाएगा।

(12)

 

nayi dukaano ke
chakkar se nikal jaa
warna ghar ka saaman bhi
baazar mein aa jaayega

नई दुकानो के
चक्कर से निकल जा
वर्ण घर का सामना भी
बाजार में आ जाएगा

(13)

 

sirf khanzar nahi
aankhon mein paani chahiye
aye khuda dushman bhi
mujhko khandaani chahiye

सिरफ खानजर नहीं
आँखों में पानी चाहिए
ऐ खुदा दुश्मन भी
मुझे खानदानी चाहिए

(14)

 

maine apni khush aankhon se
lahu chalka diya
ek samandar keh rha tha
paani chaahiye

मैंने अपनी खुश आंखें से
लहू चक्का दिया
एक समंदर कह रहा था
पानी चाहिए

(15)

 

Zindagi ki har kahani
beasar ho jaayegi
hum naa honge to ye duniya
darbadar ho jaayegi

जिंदगी की हर कहानी
ब्यासर हो जाएगी
हम ना होंगे तो ये दुनिया
दरबदर हो जाएगी

(16)

 

patthar karke chhodegi
agar ruk jaayegi
chalte rahiye to zameen bhi
hamsafar ho jaayegi

पत्थर करके छोडेगी
अगर रुक जाएगी
चलते रहो तो ज़मीन भी
हमसफर हो जाएगी

(17)

 

tumne khud hi sar chadhai thi
to ab chakkho maza
mein naa kehta tha ki
duniya dard-e- sar ho jaayegi .

तुमने खुद ही सर चढाई थी
तो अब चक्खो मजाज़
में ना कहता था की
दुनिया दर्द-ए-सर हो जाएगी।

(18)

kabutaron ko khuli chhat bigaad deti hai
nayi hawaon ko saubat bigaad deti hai
jo zulm karte hai itne bure nahi hoti
saza naa deke adaalat bigaad deti hai

कबूतों को खुली छत बिगाड़ देती है
नई हवाओ को सौबत बड़ी बात होती है
जो ज़ुल्म करते हैं इतने बुरे नहीं होते
साजा ना देके अदालत बिगाड़ देता है

(19)

suraj sitaarein chaand mere saath mein rahe
jab tak tumhaare haath mere haath mein rahe
shaakhon se tut jaayee wo patte nahin hai hum
aandhi se koi keh de ki aukaat mein rahe

सूरज सितारे चाँद मेरे साथ में रहे
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहे
शाखों से टूट जाये वो पत्ते नहीं है हम
आंधी से कोई कह दे की औकात में रहे

(20)

kiraayedaar hai zaati makan thodi hai
sabhi ka khoon hai shaamil
yha ki mitti mein,
kisi ke baap ka hindustaan thodi hai

किरायेदार है ज़ाती मकान छोटी है
सब का खून है शमिल
यह की मिट्टी में,
किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है

(21)

sula chuki thi ye duniya thappak thappak ke
mujhe jaga diya teri paajeb ne khannak khannak ke
koi bataye ki mein kiska kya ilaaj karu
pareshan karta hai ye din dhadakk dhadakk ke

सुला छुकी थी ये दुनिया थप्पड़ थप्पड़ के
मुझे जग दिया तेरी पाजेब ने खन्नाक खन्नाक के
कोई बता की में किसका क्या इलाज करू
परशन करता है ये दिन धड़कन धड़क के

(22)

main jaantu hun ki dushman bhi kam nhi hai
lkin hamari tarh hatheli pe jaan thodi hai
jo aaj sahib-e-maslad hai kal nahi honge
kiraayedaar hain zaati makan thodi hai

मैं जंतु हूं की दुश्मन भी कम नहीं है
जैसी हमारी तार हाथी पे जान थोड़ी है
जो आज साहब-ए-मसलाद है कल नहीं होंगे
किरायेदार है ज़ाती मकान छोटी है

(23)

Hum apni jaan ke dushman ko apni jaan kehte hain
mohabbat ki isi mitti ko hindustaan kehte hai
jo ye deewar ka surak hai saajis ka hissa hai
magar hum isko apne ghar ka raushandaan kehte hain

हम अपनी जान के दुश्मन को अपनी जान कहते हैं
मोहब्बत की इसी मिट्टी को हिंदुस्तान कहते हैं
जो ये दीवार का सुर है साजिस का हिसा है
मगर हम इसे अपने घर का रौशनदान कहते हैं

(24)

haath khaali hai tere se jaate jaate
jaan hoti to meri jaan luta jaate
ab to har haath ka patthar hame pehchaanta hai
uamr guzari hai tere sheher mein aate aate

हाथ खाली है तेरे से जाते जाते हैं
जान होती तो मेरी जान लुटा जाते
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पता चलता है
उमर गुजरी है तेरे शहर में आते आते

(25)

loo bhi chalti thi to baade-shaba kehte thay,
paav failaaye andheron ko diya kehte thay
unka anzaam tujhe yaad nahi hai shayad,
aur bhi log thay jo khud ko khuda kehte thay .

लू भी चलती थी तो बड़े-शबा कहते थे,
पाव फेलाया अंधेरों को दिया कहते थे
उनका अंज़ाम तुझे याद नहीं है शायद,
और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे।

 

Thank You.

 

 

Leave a Comment