top 10 ! राहत इंदौरी शायरी हिंदी राजनीति | rahat indori shayari hindi on rajniti | 2022 |

top 10 ! राहत इंदौरी शायरी हिंदी राजनीति | rahat indori shayari hindi on politics| 2022 |

राहत इंदौरी शायरी हिंदी राजनीति : hello doston toh yarr kese ho aap sabhi log  . toh yarr aaj hm apke liye leke aye hai राहत इंदौरी      शायरी हिंदी राजनीति  | Rahat indori ji ek bhtt hi mashaur shyar the inke shayari ko smjhne k liye ek   alg soch chiye . aaj ke is post me apko subse best राहत इंदौरी शायरी हिंदी राजनीति milenge . doston agar app राजनीति shayari k fan hain toh is post me bane rhahe. doston ag app hindi shayari k fan hai toh hamre blog k home page par jake ek bar hindi shayari collection ko jrur                check kren . No.20 jrur padhna bhttt khas hain .

 

* Who is Rahat Indori ?

Click below for more quotes:-

Tareef shayari for status
Attitude shayari for boys 

Royal Dabbang hindi status shayari . 
Chaturai par shayari for What’s app status .
मनहूस पर शायरी  hindi shayar .
Positive Quotes in Hindi for life
कब्रिस्तान हॉरर स्टोरी इन हिंदी
डोरेमोन की असली कहानी
इतिहास बदलने वाली शायरी

 

राहत इंदौरी शायरी हिंदी राजनीति |

(1)

Murda lohe ko auzaar banane waale ,
apne aansu ko hathiyaar banane waale ,
humko bekaar samajhte hai siyaasatdaan magar
hum hai is mulk ki sarkaar banane waale

मुर्दा लोहे को औज़ार बनाने वाले,
अपने आंसु को हाथियार बनाने वाले,
हमको बेकर समजते है सियासतदान मगर
हम है मुल्क की सरकार बनाने वाले हैं

(2)

Chor , beimaan aur bhrasht netaao ki kya karte ho baat,
loktantra ki taakat hai janta mein,
dikhlaa do inki aukaat.

चोर, बेमान और भ्रष्ट नेताओ की क्या करते हो बात,
लोकतंत्र की तकत है जनता में,
दिखला दो इनकी औकात।

(3)

Jaha sach hai waha ham khade hai,
isi khaatir ham aankhon mein gade hai.

जहां सच है वहा हम खड़े हैं,
इसि खतीर हम आंखें में गए हैं।

best राहत इंदौरी शायरी हिंदी राजनीति

(4)

Neta ki baaton mein sachai ka abhaav hota hai,
jhooth boolna to inka swabhaao hota hai.

नेता की बातों में सच्चा का भाव होता है,
झूठ बोलना तो इनका स्वभाव होता है।

(5)

Neta bhi khoob thagte hai,
ye to 5 saal baad hi dikhte hai.

नेता भी खोब ठगते है,
ये तो 5 साल बाद ही देखते हैं।

(6)

Nazar waale ko hindu aur musalmaan dikhta hai,
main andha hun sahab,
mujhe to har saksh mein insaan dikhta hai.

नज़र वाले को हिंदू और मुसलमान दिखता है,
मैं अंधा हूं साहब,
मुझे तो हर साक्षी में इंसान दिखता है।

(7)

Loktantra jab apne asli rang mein aata hai,
to netaaon ki aukaat ka pata chal jaata hai.

लोकतंत्र जब अपने असली रंग में आता है,
तो नेताओं की औकात का पता चल जाता है।

(8)

Tum se phehle wo jo ek saksh yaha takht-nashi tha,
usko bhi apne khuda hone pe itna hi yakeen tha.

तुम से पहले वो जो एक साक्षी यह तख्त-नशी था,
उसे भी अपने खुदा होने पर इतना ही याकेन था।

deep राहत इंदौरी शायरी हिंदी राजनीति

(9)

Raja bola raat hai raani boli raat hai,
mantri bola raat hai santri bola raat hai,
ye subah subah ki baat hai.

राजा बोला रात है रानी बोली रात है,
मंत्री बोला रात है संतरी बोला रात है,
ये सूबा सूबा की बात है।

(10)

Sabhi ek jaisa hi likhte hai,
bas matlab badal jaate hai,
sarkaare waise hi chalti hai,
bas wazeer-e-aazam badal jaate hai.

सबी एक जैसा ही लिखते हैं,
बस मतलब बदलते जाते हैं,
सरकारे वैसे ही चलती है,
बस वज़ीर-ए-आज़म बदल जाते हैं।

(11)

Gandi raajneeti ka yeh bhi ek parinaam hai,
bees rupaye ek botal paani kaa daam hai.

गंदी राजनीति का ये भी एक परिनाम है,
मधुमक्खी रूपए एक बोतल पानी का दाम है।

(12)

Rajneeti mein ab yuwaao ko bhi aana chahiye,
desh ko eemaandaari kaa aaina dikhana chahiye.

राजनीति में अब युवाओं को भी आना चाहिए,
देश को एमांदारी का आईना दिखाना चाहिए।

most unique राहत इंदौरी शायरी हिंदी राजनीति

(13)

Na masjid ko jaante hai,
na shiwaale ko jaante hai,
jo bhookhe pait hai,
wo sirf niwaale ko jaante hai.

ना मस्जिद को जाते हैं,
ना शिवाले को जाते हैं,
जो भुखे पैट है,
वो सिर्फ निवाले को जाने है।

Must read top 10 ! राहत इंदौरी शायरी हिंदी राजनीति | rahat indori shayari hindi on rajniti | 2022 |

(14)

kyaa khoya,kyaa paaya jag mein,
mujhe kisi se nahi shikaayat
yadyapi chalaa gaya pag-pag mein.

क्या खोया, क्या पाया जग में,
मुझे किसी से नहीं शिकायतो
यद्यपि चला गया पग-पग में।

(15)

Sawaal zeher ka nahi tha,
wo to main pee gaya
takleef logo ko tab huyi,
jab main fir bhi jee gaya.

सवाल ज़हर का नहीं था,
वू तो मैं पेशाब गया
तकलीफ लोगो को तब हुई,
जब मैं फिर भी जी गया।

(16)

Hamari rehnumaao mein bhala itna gumaan kaise,
hamare jaagne se,
neend mein unki khalal kaise.

हमारी रहनुमाओ में भला इतना गुमान कैसे,
हमारे जाने से,
जरूरत में उनकी खालल कैसे।

(17)

Kya bharosa kare aaj-kal ke netaao par
ye ab janta ko bharmaane lage hai,
neta itne rang badalte hai ki girgit bhi sharmaane lage hai.

क्या भरोसा करे आज कल के नेताओ पर
ये अब जनता को भरमाने लगे हैं,
नेता इतने रंग बदलते हैं की गिरगिट भी शर्मने लगे हैं।

(18)

Ab koi naadhokha dega ,
itni umeed to waapas kar de,
hamse har khwaab chinne waale,
hamari neend to waps kar de.

अब कोई नाधोखा दूंगा,
इतनी उम्मेद तो वापस कर दे,
हमसे हर ख़्वाब छिने वाले,
हमारी जरूरत कर दे को बदलने के लिए।

Meaning fu

(19)

Huwa karti thi rajneeti bhi kabhi ek pardanashi aurat,
ab sadko par utar aay hai sashaktikaran ki chaah mein.

हुआ कारती थी राजनीति भी कभी एक परदानाशी औरत,
अब सदको पर उतर आया है सशक्तिकरण की चाह में।

(20)

Sattar baras bitaakar sikhi loktantra ne baat,
mahaamahim mein gun mat dhundho,
pucho kewal jaat?

सत्तार बरस बिटाकर सिखी लोकतंत्र ने बात,
महामहिम में बंदूक मत ढंढो,
पुछो केवल जाट?

(21)

Dil na-umeed to nahi naamkam hi to hai,
lambi hai gham ki shaam magar shaam hi to hai.

दिल ना-उमेद तो नहीं नमकम ही तो है,
लंबी है गम की शाम मगर शाम ही तो है।

(22)

Jo maut se naa darta tha baccho se dar gaya,
ek raat khaali haath jab majdoor ghar gaya.

जो मौत से ना डरता था बच्चों से डर गया,
एक रात खाली हाथ जब मजदूर घर गया।

(23)

Ye waqt bahut hi nazuk hai,
ham par hamle dar hamle hai,
dushan ka dard yahi to hai,
hum har hamle par sambhale hai.

ये वक्त बहुत ही नज़ुक है,
हम पर हमले डर हमले है,
दुशन का दर्द यही तो है,
हम हर हमले पर संभले है।

(24)

Bhar do fir aag un bujhte chiraago mein,
jalaakar rakh de un nafrat ke aashiyaan ko.

भर दो फिर आग उन बुझते चिरागो में,
जलाकर रख दे उन नफ़रत के आशियान को।

(25)

Bhartiya raajneeti, ek naye mod mein
kaun kitna gire,
sab lage hode mein.

भारतीय राजनीति, एक नए मोड में
कौन कितना गिरे,
सब लगे होड़े में।

(26)

Aam aadmi party ko dekho,
jaha-taha deti hai dharna,
inko bhi sikhaao watan se ishq karna.

आम आदमी पार्टी को देखो,
जहां-तह देता है धारणा,
इन्हें भी पढ़ाओ वतन से इश्क करना।

(27)

Bolta jyada hun par neta nahi hun,
bina matlab ke kisi ko kuch deta nahi hun.

बोलता ज्यादा हूं पर नेता नहीं हूं,
बिना मतलब के किसी को कुछ देता नहीं हूं।

(28)

Dosti ho yaa dushmani,
salami door se achi lagti hai,
rajneeti mein koi nahi saga ,
ye baat sachi lagti hai.

दोस्ती हो या दुश्मनी,
सलामी दूर से अच्छी लगती है,
रजनीति में कोई नहीं गाथा,
ये बात सच्ची लगती है।

(29)

Dushmani jam kar karo lekin gunzaayish rahe
jab kabhi dost ho jaaye to sharminda na ho

दुश्मनी जाम कर करो लेकिन गुंज़ायिश रहे
जब कभी दोस्त हो जाए तो शर्मिंदा ना हो

(30)

Dekar dard zamane bhar ka kisliye marham laaye ho
kyaa tum bhi neta ho rajneeti se aaye ho.

देकर दर्द जमाने भर का किसलिय मरहम लाए हो
क्या तुम भी नेता हो राजनीति से आए हो।

Thank You .

Doston hmare shayri ko padhne k liye bht bht dhnaywaad . Hme comment krke jrur btayen ki apko hmara content kesa lga . ese or bi shayari k liye app hme follow karen . राहत इंदौरी शायरी हिंदी

Leave a Comment