Top 20 ! Chaturai par shayari | For What’s app status | 2022

Top 20 ! Chaturai par shayari | For What’s app status | 2022 |

 

Chaturai par shayari : Hello Doston app sabhi ka ek bar fir se swagat hain shayarhindi.com par . Ajj hm apke liye ek bhtt hi behtrin post leker aaye hain jo apki zindgi k kai more par apki madat krega . Is post me hm Chaturai par shayari laaye hain . Life me bhtt sare ese situaton aate hai jaaha aapke sath rehen wale apko badi hi chaturai se dokha de jate hain . toh doston aaj hmara ye post Chaturai par shayari apko uunhi situation k upr shayari dega . No 15 jrur padhe bhtt khas hain .

 

Who was Chanakya ?

 

chaturai par shayari

 

 

Chaturai par shayari

 

(1)

Main sab jaanta hun ,
yahi soch insaan ko kuwe kaa
mendhak bana deti hai

मैं सब जनता हूं,
यही सोच इंसान को कुवे कास
मेंधक बना देता है

 

(2)

Jo beet gaya,so beet gaya
yadi humse koi galat kaam ho gaya hai
to uski chinta na karte hue wartamaan ko
sudhaarkar bhawishya kosawaarna chahiye

जो बीट गया, सो बीट गया
याद हमसे कोई गलत काम हो गया है
उसे चिंता न करते हुए हुए वर्तमान को
सुधारकर भविष्य कोसावर्णा चाहिए

 

(3)

 

Pita ki daulat par kya ghamand karna ,
maza to tab hai jab daulat apni ho aur
aghamand pita kare

पिता की दौलत पर क्या घमंद करना,
मजा तो तब है जब दौलत अपनी हो और
अघमंद पिता करे

 

(4)

 

Apni zubaan ki taakat kabhi bhi
aone maata-pita par
mat aazmaao jinhone tumhe bolna sikhaya

अपनी जुबान की तकत कभी भी
आने माता पिता पर
मत आजमाओ जिनहोने तुम्हें बोलना सिखया

 

(5)

 

Soch achi honi chahiye kyonki
nazar kaa ilaaz to mumkin hai
par nazariye ka nahi

सोच अच्छी होनी चाहिए क्यों
नज़र का इलाज़ तो मुमकिन है
पर नज़रिये का नहीं

 

best Chaturai par shayari

Chaturai par shayari in hindi 

Chaturai par shayari for boys 

 

(6)

Jis manushya ko dharm,kaam-bhog,moksh
mein se ek bhi wastu nahi mil paati,
uska janam kewal marne ke liye hi hota hai .

जिस मनुश्य को धर्म, काम-भोग, मोक्ष
में से एक भी वास्तु नहीं मिल पाटी,
उसका जन्म केवल मरने के लिए ही होता है।

 

(7)

Agni , guru , brahman , gou,
kumari kanya,vridh aur baalak ,
in saato ko kabhi bhi
humara pair nahi lagana chahiye,

अग्नि, गुरु, ब्राह्मण, गौ,
कुमारी कन्या, वृद्ध और बालक,
सातो को कभी भी में
हमारा जोड़ी नहीं लगाना चाहिए,

 

(8)

gaddaron ki toli mein yadi hahakaar ho
to samajh lo desh ka raja mahan aur charitrawaan hai
aur desh pragati pathh par teewra agrasar hai

गद्दारों की टोली में यादी हाकार हो
तो समझ लो देश का राजा महान और चरित्रवान है
और देश प्रगति पाठ पर तेजा अग्रसार है

 

(9)

Roop aur youwan se sampann,
uchh kul mein utppan hokar bhi vidyaheen
manushya sugandh heen fool ke saman
hote hai aur shobha nahi dete.

रूप और आप से संपन्न,
अच्छा कुल में उत्पन्न हुआ भी विद्याहीन
मनुष्‍य सुगंध ही मूर्ख के समान:
होते हैं और शोभा नहीं देते।

 

Chaturai par shayari for life 

Chaturai par shayari by chanakaya

 

(10)

“Jo shakti na hote hue bhi man se
haar nahi maanta hai,
usko duniya ki koi taakat
paraasat nahi kar sakti!”

“जो शक्ति ना होते हुए भी मन से”
हार नहीं मानता है,
हमें दुनिया की कोई तको
पारसत नहीं कर सकती!”

Chaturai par shayari for boys 

(11)

Murkh sishya ko padhane par,
dushta stree ke saath jeewan bitane par tatha
dukhiyo-rogiyo ke beech rhehne par
vidwaan vyakti bhi dukhee ho hi jaata hai.

मुरख शिष्य को पढने पर,
दुश्मन स्त्री के साथ जीवन बिटने पर तथा
दुखियो-रोगियो के बीच रहने पर
विदवान व्यक्तिति भी दुखी हो ही जाता है।

 

(12)

Shabdon mein zimmedaari jhalakni chahiye
aapko bahut se log padhte hai !

शबदों में जिम्मेदारी झलकनी चाहिए
आपको बहुत से लोग पढ़ते हैं!

 

(13)

Vyakti apne guno se upar uthta hai,
uche sthaan par baith jaane se hi
uchh nahi ho jaata

व्यक्ति अपने गुनो से ऊपर उठता है,
अच्छे स्थान पर बैठे जाने से ही
अच्छा नहीं हो जाता:

 

(14)

Aap apni zindagi ki tulna
anya logo ke saath mat karo
surya aur chandrama dono hi
chamakte hai lekin apne apne samay par!

आप अपनी जिंदगी की तुलना
अन्य लोगो के साथ मत करो
सूर्या और चंद्रमा दोनो हाय
चमकते है लेकिन अपने अपने समय पर!

 

(15)

Agar shatru mein bhi gun dikhe
to unhe apna lena chahiye

आगर शत्रु में भी बंदूक दिखें
तो अपना लेना चाहीये

 

(16)

Jo saamne hai,
wah to dikhta hi nahi!
aur jonahi hota hai,
uska hum wichaar karte hai !!

जो सामने है,
वाह तो दिखता ही नहीं!
और जोनाही होता है,
उसका हम विचार करते हैं !!

 

मतलबी घटिया लोगों पर शायरी

(17)

Kisi bhi vyakti ko bahut imaandaar
nahi hona chahiye sidhe vriksha aur vyakti
phehle kaate jaate hai |

किसी भी व्यक्ति को बहुत पसंद है
नहीं होना चाहिए सिद्ध वृक्ष और व्यक्ति
पहले काटे जाते हैं |

 

(18)

Upadrav yaa ladai ho jaane par,
bhayankar aakal pad jaane par
aur dushton kaa saath milne par
bhaag jaane waala vyakti hi jee paata hai .

उपद्रव या लड़ाइ हो जाने पर,
भयंकर अकाल पद जाने पर
और दुश्मन का साथ मिलने पर
भाग जाने वाला व्यक्ति ही जी पाता है।

 

(19)

Wahi patni hai, jo pawitra aur kushal ho
wahi patni hai, jo patiwrata ho
wahi patni hai, jise pati se preeti ho
wahi patni hai, jo pati se sada satya bole.

वही पत्नी है, जो पवित्रा और कुशल हो
वही पत्नी है, जो पतिव्रत हो
वही पत्नी है, जिस पति से प्रीति हो
वही पत्नी है, जो पति से सदा सत्य बोले।

 

(20)

Jise kisi ke prati prem hai
use usi se bhay bhi hota hai.

जिस किसी के प्रति प्रेम है
प्रयोग उसी से भी होता है।

 

(21)

Satya hi prithwi ko dhaaran karta hai,
satya se hi surya tapta hai
satya se hi vayu behti hai,
sab kuch satya mein hi pratishthit hai.

सत्य ही पृथ्वी को धारण करता है,
सत्य से ही सूर्य तपता है
सत्य से ही वायु बहती है,
सब कुछ सत्य में ही प्रतिष्ठा है।

 

(22)

Aankh se andhe ko duniya nahi dikhti,
kaam ke andhe ko vivek nahi dikhta,
mann ke andhe ko apne se sreshth nahi dikhta
aur swaarthi ko kabhi bhi dosh nahi dikhta

आंख से अंधे को दुनिया नहीं दिखी,
काम के अंधे को विवेक नहीं दिखता,
मन के अंधे को अपने से श्रेष्ठ नहीं दिख रहा
और सार्थक को कभी भी दोश नहीं दिखता

 

धूर्त लोगों पर शायरी

(23)

Apne karm par vishwaash rakhiye,
raashiyon par nahi,
raashi to ram aur rawan ki bhi ek hi thi,
lekin niyati ne unhe unke fal unke karm anusaar diya

अपने कर्म पर विश्वास रखिये,
राशियों पर नहीं,
राशि तो राम और रावन की भी एक ही थी,
लेकिन नियति ने उन्हे उनके फल उनके कर्म अनुसार दिया

 

(24)

Bhay ko nazdeek naa aane do
agar yeh nazdeek aaye
is par hamla kar do
yaani bhay se bhaago mat
iska saamna karo

भय को नज़र आने दो
अगर ये नज़र आए
इस पर हमला कर दो
यानि भय से भागो मति
इस्का सामना करो

 

(25)

Jisme nuksaan sehne ki taakat ho
wahi munafa kama sakta hai
fir chahe wo kaarobaar ho
ya rishte ya koi yuddh!

जिसमे नुक्सान सेहने की तकत हो
वही मुनाफा काम सकता है
फिर चाहे वो करोबार हो
या रिश्ते या कोई युद्ध!

 

Thank You.

Doston aap sabhi ka bhtt dhanywaad hmare Chaturai par shayari blogpost ko pahne ke liye . doston comment jrur kare apke comet se hamara hoosla badhta hai . Hm apke liye ese hi majedar or dhuwadar shayari larte rehege .

( shayarhindi sigininf off…… )

Leave a Comment